January 26, 2021

CG News 24

नई सदी की पत्रकारिता

दिसंबर से हसदेव एक्सप्रेस की जगह कोरबा से दुर्ग के बीच फास्ट स्पेशल ट्रेन

1 min read

कोरबा, ऊर्जा नगरी के लोगों को अब जाकर रेलवे ने राहत देने की प्रक्रिया शुरू की है। रेल संघर्ष समिति की पहल पर रेलवे प्रबंधन ने दिसंबर से हसदेव एक्सप्रेस की जगह कोरबा से दुर्ग के बीच फास्ट स्पेशल ट्रेन चलाने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा है। साथ ही छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस को संपर्क क्रांति और दुरंतो एक्सप्रेस के दिन चलाने पर सहमति जताई है। इससे लोगों को राजधानी के साथ छोटे शहर जाने सुविधा मिलेगी। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के मंडल प्रबंधक (डीआरएम) आलोक सहाय के साथ रेल संघर्ष समिति के वरिष्ठ सदस्य रामकिशन अग्रवाल के नेतृत्व में प्रतिनिधि मंडल ने आंदोलन के पहले यात्रियों को हो रही परेशानी को दूर करने चर्चा की। अग्रवाल ने जिले के यात्रियों के लिए ऐसी ट्रेन शुरू करने की मांग की, जो यहां से सुबह चलकर शाम रात तक कोरबा लौट सकें। हसदेव एक्सप्रेस को रोज चलाने पर जोर भी दिया गया। इस पर डीआरएम ने कहा कि हसदेव एक्सप्रेस को बोर्ड की अनुमति पर ही चलाया जा सकेगा। रेल संघर्ष समिति ने सुझाव दिया कि बंद पैसेंजर ट्रेन अथवा मेमू लोकल को ही स्पेशल बनाकर चलाया जा सकता है। जैसा कि बिहार और उत्तरप्रदेश के लोगों के लिए शुरू किया गया है। इसे आधार बनाकर बोर्ड की सहमति ले सकते हैं। दोनों ट्रेनों का प्रस्ताव बना बोर्ड को भेजने को कहा
डीआरएम सहाय ने कहा कोरबा से दुर्ग व बिलासपुर से कटनी के बीच मेमू लोकल को फास्ट पैसेंजर बनाकर स्पेशल ट्रेन के रूप में चलाने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड भेज देंगे। उन्होंने अफसर से दोनों ट्रेनों का प्रस्ताव बनाने व बोर्ड को भेजने कहा। प्रस्ताव के साथ बिहार व उत्तर प्रदेश में शुरू की गईं पैसेंजर ट्रेनों का हवाला भी देने कहा है। स्थिति सामान्य होने पर चलेगी हसदेव एक्सप्रेस
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के सीपीआरओ साकेत रंजन ने हालांकि पहले ही चर्चा में कह चुके हैं कि हसदेव एक्सप्रेस को पूरी तरह से बंद नहीं किया गया है। कोरोना संक्रमण के कारण यह स्थिति निर्मित हुई है। स्थिति सामान्य होने पर यह ट्रेन फिर पटरी पर दौड़ने लगेगी। इस बात की पुष्टि डीआरएम सहाय ने भी चर्चा के दौरान की। उन्होंने कहा कि रेलवे द्वारा ऐसी ट्रेनों को नहीं चलाया जा रहा है, जिनकी आक्यूपेंसी 30 प्रतिशत से कम है। दो रूट पर फास्ट ट्रेन चलाने चल रही प्रक्रिया
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के मंडल प्रबंधक आलोक सहाय ने कहा कि समिति के साथ हुई चर्चा के बाद दो रूट पर मेमू लोकल को फास्ट ट्रेन बनाकर चलाने की प्रक्रिया चल रही है। हसदेव एक्सप्रेस के नहीं चलने से यात्रियों की परेशानी को देखते हुए विकल्प के रूप में यह व्यवस्था की जा रही है। संभवत: अगले महीने तक बोर्ड से मंजूरी मिल जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *